News Flash: समाचार फ़्लैश:
  • मुख्यमंत्री राहत कोष में अंशदान
  • मुख्यमंत्री ने उदयपुर हत्या की निंदा की
  • मुख्यमंत्री ने बोर्ड परीक्षा में उत्कृष्ट प्रदर्शन करने वाले छात्रों को बधाई दी
  • एनओटीसी के बिना एसआरटी जमा करवाने की तिथि बढ़ाई
  • मुख्यमंत्री नारी को नमन समारोह की अध्यक्षता करेंगे
  • मुख्यमंत्री ने धर्मशाला से राज्य स्तरीय नारी को नमन कार्यक्रम के अन्तर्गत महिला यात्रियों को बस किराए में 50 प्रतिशत की रियायत की शुरूआत की
View Allसभी देखें
 Latest News
 नवीनतम समाचार
  • मुख्यमंत्री ने धर्मशाला से राज्य स्तरीय नारी को नमन कार्यक्रम के अन्तर्गत महिला यात्रियों को बस किराए में 50 प्रतिशत की रियायत की शुरूआत की
     
    परिवहन निगम में मोटर मैकेनिक, इलैक्ट्रिशयन और अन्य श्रेणियों के 265 पद भरने की घोषणा 
     
    मुख्यमंत्री जय राम ठाकुर ने आज कांगड़ा जिला के धर्मशाला में राज्य स्तरीय ‘नारी को नमन’ समारोह की अध्यक्षता करते हुए हिमाचल पथ परिवहन निगम की बसांें में महिला यात्रियों को बस किराए में 50 प्रतिशत की रियायत की शुरूआत की। उन्होंने हिमाचल पथ परिवहन निगम की बसों में मौजूदा न्यूनतम किराया 7 रुपये से घटा कर 5 रुपये करने और हिमाचल प्रदेश परिवहन निगम की राइड विद प्राइड टैक्सियों में महिला चालकों के 25 पद भरने की घोषणा की। उन्होंने हिमाचल पथ परिवहन निगम में मोटर मैकेनिक, इलैक्ट्रिशयन और अन्य श्रेणियों के 265 पद भरने की भी घोषणा की। उन्होंने कहा कि हिमाचल पथ परिवहन निगम को 30 करोड़ रुपये की अतिरिक्त राशि उपलब्ध करवाने का मामला वित्त विभाग के समक्ष लाया जाएगा।
    मुख्यमंत्री ने कहा कि आज का दिन प्रदेशवासियों के लिए ऐतिहासिक है, क्योंकि प्रदेश सरकार ने हिमाचल पथ परिवहन निगम की बसों में महिला यात्रियों को 50 प्रतिशत रियायत प्रदान करने वाले ‘नारी को नमन’ कार्यक्रम का शुभारम्भ किया। उन्होंने कहा कि महिलाओं को बस किराए में दी जाने वाली यह छूट राजनीतिक कदम नहीं है, बल्कि महिला सशक्तिकरण की ओर हमारे संकल्प की दिशा में की गई सकारात्मक पहल है। 
    जय राम ठाकुर ने कहा कि यह योजना महिलाओं को आत्मनिर्भर बनाने की दिशा में सहायक सिद्ध होगी और प्रदेश में महिलाओं की प्रगति को और गति प्रदान करेगी। उन्होंने कहा कि एक अनुमान के अनुसार हिमाचल पथ परिवहन निगम की बसों में प्रतिदिन 1.25 लाख महिलाएं यात्रा करती हैं और इस योजना के अन्तर्गत प्रदेश सरकार लगभग 60 करोड़ रुपये वार्षिक व्यय करेगी। उन्होंने कहा कि यह योजना प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के ‘बेटी बचाओ, बेटी पढ़ाओ’ अभियान को भी गति प्रदान करेगी, क्योंकि प्रतिदिन बसों में यात्रा करने वाली विद्यालय और महाविद्यालय की छात्राएं इससे लाभान्वित होंगी।
    मुख्यमंत्री ने कहा कि महिलाएं हमारी कुल आबादी का 50 प्रतिशत है और महिलाओं के समग्र विकास और उनकी सक्रिय भागीदारी के बिना विकसित समाज की परिकल्पना नहीं की जा सकती। उन्होंने कहा कि इसी उद्देश्य को ध्यान में रखते हुए वर्तमान प्रदेश सरकार ने निगम की बसों में बस किराए में 50 प्रतिशत छूट देने का निर्णय लिया। उन्होंने कहा कि यह दुर्भाग्यपूर्ण है कि एक युवा विपक्षी विधायक ने इस ऐतिहासिक निर्णय के तुरन्त बाद फेसबुक लाइव में वर्तमान राज्य सरकार पर प्रदेश के लोगों को मुफ्तखोरी की आदत लगाने का आरोप लगाया। उन्होंने कहा कि प्रदेश के लोग ऐसे नेताओं को आगामी चुनावों में करारा जवाब देंगे।
    जय राम ठाकुर ने कहा कि ग्रामीण विकास एवं पंचायती राज मंत्री के उनके कार्यकाल के दौरान वर्ष 2010 में पंचायती राज संस्थाओं और शहरी स्थानीय निकायों में महिलाओं को 50 प्रतिशत आरक्षण प्रदान किया गया था। उन्होंने कहा कि उन चुनावों में 58 प्रतिशत से अधिक सीटों पर महिलाओं ने जीत हासिल की थी और आज यह 60 प्रतिशत तक बढ़ गया है। उन्होंने कहा कि उज्ज्वला योजना से छूटे हुए लाभार्थियों को योजना का लाभ प्रदान करने के उद्देश्य से राज्य में मुख्यमंत्री गृहिणी सुविधा योजना आरम्भ की गई है। उन्होंने कहा कि बीपीएल परिवारों की बेटियों को लाभ प्रदान करने के लिए मुख्यमंत्री शगुन योजना आरम्भ की गई, जिसके अन्तर्गत बीपीएल परिवारों की बेटियों को शादी के दौरान 31000 रुपये की आर्थिक सहायता प्रदान की जा रही है। उन्होंने कहा कि इस योजना के अन्तर्गत 5308 लड़कियों को 17 करोड़ रुपये से अधिक राशि प्रदान कर लाभान्वित किया गया है।
    मुख्यमंत्री ने कहा कि राज्य सरकार प्रदेश की महिलाओं को भयमुक्त परिवेश प्रदान करने के प्रति संवेदनशील है। उन्होंने कहा कि महिलाओं को सुरक्षा प्रदान करने के लिए गुड़िया हेल्पलाइन आरम्भ की गई है। उन्होंने कहा कि बेटी है अनमोल योजना के अन्तर्गत बीपीएल परिवार की दो बेटियों के नाम 21 हजार रुपए जमा किए जा रहे हैं। उन्होंने कहा कि ग्रामीण संगठनों से जुड़ी सभी महिला स्वयं सहायता समूहों की सदस्योें को 25 हजार रुपये की अतिरिक्त राशि रिवॉल्विंग फंड के रूप में प्रदान की जा रही है। उन्होंने कहा कि सरकार ने महिलाओं को आत्मनिर्भर बनाने के लिए मुख्यमंत्री स्वावलंबन योजना आरम्भ की है और इसके अन्तर्गत उन्हें स्वरोजगार शुरू करने के लिए 35 प्रतिशत तक का अनुदान भी प्रदान किया जा रहा है।
    इससे पहले, मुख्यमंत्री ने महिला यात्रियों को रियायती टिकट और पुष्प प्रदान किए और धर्मशाला बस अड्डे से हिमाचल पथ परिवहन निगम की बसों को झंडी दिखाकर रवाना किया।
    इस अवसर पर मुख्यमंत्री ने हिमाचल पथ परिवहन निगम की महिला बस चालक सीमा ठाकुर को सम्मानित भी किया। उन्होंने अनुकंपा आधार के दो लाभार्थियों को नियुक्ति पत्र भी प्रदान किए।
    इस अवसर पर मुख्यमंत्री ने मंडी, सिरमौर, ऊना, चंबा, हमीरपुर, शिमला, लाहौल-स्पीति के काजा, सोलन, बिलासपुर, रिकांगपिओ (किन्नौर) और कुल्लू जिला की महिला यात्रियों से संवाद भी किया।  
    उद्योग एवं परिवहन मंत्री बिक्रम सिंह ने कहा कि प्रदेश सरकार राज्य में इलैक्ट्रिक बसों के संचालन पर बल दे रही है। उन्होंने कहा कि पिछले साढ़े चार वर्षों में 3500 अधिक युवाओं को परिवहन विभाग में रोजगार प्राप्त हुआ है। उन्होंने उपस्थित नारी शक्ति का आह्वान किया कि वे प्रदेश सरकार की योजनाओं एवं कार्यक्रमों का प्रभावी प्रचार-प्रसार करें ताकि प्रदेश में विकास की गति को बनाए रखने के लिए वर्तमान सरकार को पुनः सत्तासीन किया जा सके। 
    भाजपा महिला मोर्चा की प्रदेशाध्यक्ष रशिम धर सूद ने महिला यात्रियों को किराए में 50 प्रतिशत छूट प्रदान करने के ऐतिहासिक निर्णय के लिए मुख्यमंत्री का आभार व्यक्त किया। उन्होंने इस अवसर पर सरकार द्वारा महिला सशक्तिकरण के लिए चलाई जा रही विभिन्न कल्याणकारी योजनाओं के संबंध में भी जानकारी दी।
    प्रधान सचिव परिवहन आर.डी. नज़ीम ने मुख्यमंत्री का स्वागत करते हुए कहा कि यह हिमाचल पथ परिवहन निगम के लिए गर्व का क्षण है, जब निगम की बसों में महिलाओं को किराए में 50 प्रतिशत की छूट प्रदान की जा रही है। उन्होंने कहा कि निगम को सुरक्षित एवं आरामदायक परिवहन सुविधाएं उपलब्ध करवाने के लिए जाना जाता है।
    प्रबन्ध निदेशक, परिवहन संदीप कुमार ने इस अवसर पर धन्यवाद प्रस्ताव रखा।
    विधानसभा अध्यक्ष विपिन सिंह परमार, विधायक विशाल नेहरिया, अर्जुन सिंह, रविन्द्र धीमान, अरूण मेहरा, होशियार सिंह और रीता धीमान, वूलफेड के अध्यक्ष त्रिलोक कपूर, उपायुक्त कांगड़ा डॉ. निपुण जिंदल ने धर्मशाला से, जबकि जल शक्ति मंत्री महेन्द्र सिंह ठाकुर, शहरी विकास मंत्री सुरेश भारद्वाज, सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता मंत्री सरवीण चौधरी, जनजातीय विकास मंत्री डॉ. राम लाल मारकण्डा, ग्रामीण विकास एवं पंचायती राज मंत्री वीरेन्द्र कंवर, शिक्षा मंत्री गोविन्द ठाकुर, स्वास्थ्य मंत्री डॉ. राजीव सैजल, वन मंत्री राकेश पठानिया, ऊर्जा मंत्री सुख राम चौधरी, खाद्य एवं नागरिक आपूर्ति मंत्री राजिन्द्र गर्ग, मुख्य सचेतक बिक्रम जरयाल, विधायक तथा अन्य गणमान्यों ने इस कार्यक्रम में वर्चुअल माध्यम से विभिन्न जिला मुख्यालयों से कार्यक्रम में भाग लिया।
                           .0.
     
     
    Read More
  • मुख्यमंत्री राहत कोष में अंशदान
    हिमाचल प्रदेश जल शक्ति विभाग इंजीनियर्स एसोसिएशन के एक प्रतिनिधिमंडल ने आज यहां ओक ओवर में मुख्यमंत्री जय राम ठाकुर से भेंट की और एसोसिएशन की ओर से उन्हें मुख्यमंत्री राहत कोष के लिए 11 लाख रुपये का चेक भेंट किया।
    मुख्यमंत्री ने इस पुनीत कार्य के लिए एसोसिएशन का आभार व्यक्त किया।
    इस अवसर पर जल शक्ति मंत्री महेंद्र सिंह ठाकुर, सचिव जल शक्ति विभाग विकास लाबरू, प्रमुख अभियंता संजीव कौल एवं धर्मेंद्र गिल, एसोसिएशन के अध्यक्ष डॉ. एस.के. शर्मा, महासचिव दीपक गर्ग, उपाध्यक्ष विवेक हाजरी, एल.आर. शर्मा और रविकांत तथा एसोसिएशन के अन्य पदाधिकारी व सदस्य भी उपस्थित थे।
    .0. 
    Read More
  • मुख्यमंत्री ने भारतीय मजदूर संघ के प्रतिनिधिमण्डल को सम्बोधित किया
     
    मुख्यमंत्री जय राम ठाकुर ने आज ओक ओवर, शिमला में भारतीय मजदूर संघ के एक प्रतिनिधिमण्डल को संबोधित करते हुए कहा कि राज्य सरकार ने वर्तमान वित्त वर्ष के दौरान दिहाड़ी मजदूरों की दिहाड़ी में 50 रुपये की वृद्धि की है। 
    मुख्यमंत्री ने कहा कि राज्य सरकार के अधिकारियों और भारतीय मजदूर संघ के प्रतिनिधियों की बैठक बुलाई जाएगी, ताकि विभिन्न मुद्दों का समाधान किया जा सके। उन्होंने कहा कि संघ की सभी मांगों पर सहानुभूतिपूर्वक विचार किया जाएगा।
    भारतीय मजदूर संघ के अध्यक्ष मदन राणा ने मजदूर वर्ग के कल्याण के लिए विभिन्न पहल करने के लिए मुख्यमंत्री का आभार व्यक्त करते हुए संघ के कुछ मुद्दों के शीघ्र निवारण करने का आग्रह किया।
      इस अवसर पर संघ के महासचिव यशपाल हेटा और अन्य नेता भी उपस्थित थे।
    .0.
    Read More
  • मुख्यमंत्री ने पुलिस विभाग की 160 करोड़ रुपये लागत की 43 परियोजनाओं के लोकार्पण एवं शिलान्यास किए
     
    राज्य सरकार प्रभावी पुलिस व्यवस्था सुनिश्चित करने के लिए प्रदेश में पुलिस बल के आधुनिकीकरण और सुदृढ़ीकरण के लिए प्रतिबद्ध है। यह बात मुख्यमंत्री जय राम ठाकुर ने आज शिमला से वर्चुअल माध्यम द्वारा राज्य के विभिन्न भागों में पुलिस विभाग की लगभग 160 करोड़ रुपये लागत की 43 परियोजनाओं के लोकार्पण एवं शिलान्यास करने के उपरान्त कही। मुख्यमंत्री ने ओकओवर, शिमला से पुलिस विभाग के विभिन्न पुलिस थानों के लिए 20 नए वाहनों को हरी झंडी दिखाकर रवाना भी किया और पुलिस चौकी संजौली को पुलिस थाना में स्तरोन्नत करने की घोषणा भी की।
    मुख्यमंत्री ने कहा कि पिछले वर्ष राज्य सरकार ने पुलिस विभाग को 394 वाहन उपलब्ध करवाए थे, जिनमें 151 वाहन राज्य के बजट से व 135 स्कूटी भारत सरकार द्वारा वीरांगना ऑन व्हील के तहत उपलब्ध करवाए गए थे तथा 108 मोटरसाइकिल केन्द्रीय सूचना एवं प्रसारण, युवा कार्य एवं खेल मंत्री अनुराग सिंह ठाकुर द्वारा निगमित सामाजिक दायित्व के तहत उपलब्ध करवाए गए। उन्होंने कहा कि उनके द्वारा आज हरी झंडी दिखाकर रवाना किए गए 20 अतिरिक्त वाहनों से पुलिस बल की कुशल गतिशीलता सुनिश्चित होगी। 
    जय राम ठाकुर ने कहा कि हालांकि राज्य में अपराध दर काफी कम है, फिर भी पुलिस बल राज्य के शान्ति और कानून व्यवस्था बनाए रखने के लिए सदैव तत्पर रहते हैं। उन्होंने कहा कि आज पुलिस बल को उपलब्ध करवाए गए वाहन नशीले पदार्थों की तस्करी और अन्य असमाजिक गतिविधियों पर रोक लगाने में सहायक सिद्ध होंगे।
    मुख्यमंत्री ने कहा कि राज्य सरकार द्वारा जिला कांगड़ा पुलिस के कार्यभार को कम करने तथा प्रभावी पुलिस व्यवस्था सुनिश्चित करने के लिए कांगड़ा जिला के नूरपुर में अलग पुलिस जिला बनाने की घोषणा की गई है।
    मुख्यमंत्री ने 1.58 करोड़ रुपये की लागत से पुलिस लाइन धर्मशाला में रेंज ऑफिस एसवी एवं एसीबी के लिए आवास का लोकार्पण किया। उन्होंने जिला कांगड़ा में 1.59 करोड़ रुपये की लागत से देहरा में पुलिस थाना भवन तथा 2.64 करोड़ रुपये की लागत से पुलिस थाना बैजनाथ के आवास का लोकार्पण किया। उन्होंने जिला सोलन में 79 लाख रुपये की लागत से पुलिस थाना कण्डाघाट के आवास, 2.70 करोड़ रुपये की लागत से पुलिस लाइन सोलन में तीन स्टोरिड बैरेक्स, बस्सी में 22 लाख रुपये की लागत से पांचवीं आईआरबी में प्रवेश द्वार व सन्तरी आश्रय, पांचवी आईआरबी बस्सी में 1.73 करोड़ रुपये की लागत से आवास, चौथी आईआरबी जंगलबैरी में 27 लाख रुपये की लागत से मुख्य प्रवेश द्वार, सुरक्षा व स्वागत कक्ष, पुलिस लाइन कैथू में 72 लाख रुपये की लागत से आवास, पुलिस कालोनी नाहन में 1.45 करोड़ रुपये की लागत से आवास, ददाहू स्थित पुलिस थाना रेणुका जी में 2.30 करोड़ रुपये की लागत से आवास, छठीं आईआरबी धौलाकुआं में 65 लाख रुपये की लागत से कमान्डेंट के लिए टाइप-5 आवास, छठीं आईआरबी धौलाकुआं में 4.61 करोड़ रुपये की लागत से 20 टाइप-2 आवास और 6.25 करोड़ रुपये की लागत से पुलिस थाना सदर बिलासपुर का लोकार्पण किया।
    जय राम ठाकुर ने पुलिस लाइन धर्मशाला में 3.90 करोड़ रुपये की लागत के आवासीय भवन, पुलिस लाइन धर्मशाला में ही 51 लाख रुपये की लागत से बनने वाले टाइप चार आवास भवन, चढ़ियार में 2.88 करोड़ रुपये की लागत से निर्मित होने वाले पुलिस चौकी भवन, पुलिस लाइन बिलासपुर में 1.92 करोड़ रुपये की लागत से बनने वाले टाइप-दो आवास भवन, पुलिस लाइन हमीरपुर में 2.39 करोड़ रुपये की लागत से बनने वाले टाइप-तीन आवास, पुलिस लाइन सोलन में  1.42 करोड़ रुपये की लागत से बनने वाले टाइप-दो आवास, दाड़लाघाट में 1.88 करोड़ रुपये की लागत से बनने वाले एसडीपीओ कार्यालय व आवास, जैमर वाहन के लिए 5 लाख की लागत से बनने वाले गैराज, पुलिस लाइन किशनपुर में 74 लाख रुपये की लागत से बनने वाले शस्त्रागार भवन, बरोटीवाला में 8.20 करोड़ रुपये की लागत से बनने वाले पुलिस थाना भवन, करसोग में 7.34 करोड़ रुपये की लागत से बनने वाले पुलिस थाना भवन, पुलिस लाइन ऊना में 12.69 करोड़ रुपये की लागत से बनने वाली पुलिस बैरक, ऊना में 6.66 करोड़ रुपये की लागत से बनने वाले थाना सदर भवन, ऊना में 6.66 करोड़ रुपये की लागत से बनने वाले महिला थाना भवन, भुंतर में 7.92 करोड़ रुपये की लागत से बनने वाले पुलिस थाना भवन, पुलिस कॉलोनी कसुम्पटी में 38 लाख रुपये से बनने वाले पार्क, पुलिस कॉलोनी कसुम्पटी में 1.88 करोड़ रुपये की लागत सेे बनने वाली व्यायामशाला, जुन्गा में एनजीओ के लिए 1.86 करोड़ रुपये की लागत से बनने वाले टाइप-तीन आवास, एचपीएपी जुन्गा में अश्वनी खड्ड के समीप 2.20 करोड़ रुपये की लागत से बनने वाली रिटेनिंग वॉल आदि, बनगढ़ में 120 जवानों के लिए 12.69 करोड़ रुपये की लागत से बनने वाली पुलिस बैरक, बनगढ़ में 1.15 करोड़ रुपये की लागत से बनने वाले स्वास्थ्य केंद्र, दूसरी आईआरबीएन स्कोह में 4.54 करोड़ रुपये की लागत से बनने वाले शस्त्रागार भवन, थर्ड आईआरबीएन पंडोह में 1.54 करोड़ रुपये की लागत से बनने वाले टाइप-दो आवास, चौथे आईआरबीएन जंगलबैरी में 2.63 करोड़ रुपये की लागत से बनने वाले टाइप-चार आवास, 5वीं आईआरबीएन बस्सी में 1.35 करोड़ रुपये की लागत से बनने वाले टाइप-टू आवास, बस्सी में 120 महिला पुलिस कर्मियों के लिए 9.26 करोड़ रुपये की लागत से बनने वाली पुलिस बैरक, धौलाकुआं में अधिकारियों के लिए 1.66 करोड़ रुपये की लागत से बनने वाले टाइप-चार आवास, छठे आईआरबीएन धौलाकुआं में 129 व्यक्यिों के लिए 12.69 करोड़ रुपये की लागत से बनने वाली पुलिस बैरक और धौलाकुआं में 6.20 करोड़ रुपये की लागत से बी.एन. लाइन कार्यालय खण्ड का शिलान्यास किया।
    पुलिस महानिदेशक संजय कुंडू ने मुख्यमंत्री का स्वागत करते हुए पुलिस विभाग की लगभग 160 करोड़ रुपये लागत की विकासात्मक परियोजनाओं के लोकार्पण व शिलान्यास करने के लिए उनका आभार व्यक्त किया।
    शहरी विकास मंत्री सुरेश भारद्वाज, हिमाचल प्रदेश आपदा प्रबंधन प्राधिकरण के उपाध्यक्ष रणधीर शर्मा, वूलफेड के अध्यक्ष त्रिलोक कपूर, मुख्यमंत्री के प्रधान सचिव सुभासीष पन्डा शिमला में उपस्थित थे, जबकि सांसद एवं भाजपा प्रदेशाध्यक्ष सुरेश कश्यप, सांसद इंदु गोस्वामी, विधायक सुभाष ठाकुर, होशियार सिंह, रीना कश्यप, परमजीत सिंह पम्मी और अन्य गणमान्य व्यक्ति वर्चुअल माध्यम से कार्यक्रम में शामिल हुए।
    .0.
     
    Read More
  • मुख्यमंत्री ने मण्डी में प्रदेश का दूसरा विश्वविद्यालय समर्पित किया
    सरदार पटेल विश्वविद्यालय के 16.18 करोड़ रुपये की लागत के निर्मित दो खण्डों का लोकार्पण किया
    मुख्यमंत्री जय राम ठाकुर ने आज मण्डी में 16.18 करोड़ रुपये की लागत से निर्मित हिमाचल प्रदेश के दूसरे विश्वविद्यालय के दो खण्डों का लोकार्पण कर औपचारिक रूप से यह विश्वविद्यालय लोगों को समर्पित किया। सरदार पटेल विश्वविद्यालय मण्डी के नाम से स्थापित इस राज्य विश्वविद्यालय के अन्तर्गत मण्डी, कांगड़ा, चम्बा, लाहौल-स्पीति और कुल्लू जिला के 141 से अधिक सरकारी और निजी महाविद्यालयों को शामिल किया गया है। 
    देव सदन मण्डी के सभागार में आयोजित उद्घाटन समारोह को सम्बोधित करते हुए मुख्यमंत्री ने महाविद्यालय और विश्वविद्यालय के अध्यापकों को संशोधित यूजीसी वेतनमान प्रदान करने की घोषणा की और इस सन्दर्भ में एक माह के भीतर अधिसूचना जारी की जाएगी। उन्होंने कहा कि प्रदेश के युवाओं को उनके क्षेत्र के निकट उच्च शिक्षा प्रदान करने के उद्देश्य से 52 वर्षों के पश्चात राज्य में दूसरा सरकारी विश्वविद्यालय अस्तित्व में आने के उपरान्त आज का यह दिन प्रदेश के इतिहास में स्वर्णिम अध्याय के रूप में अंकित हो गया है। उन्होंने कहा कि हिमाचल प्रदेश के गठन के पश्चात 22 जुलाई, 1970 को प्रदेश का पहला विश्वविद्यालय शिमला में स्थापित किया गया था।  
    मुख्यमंत्री ने विश्वविद्यालय के शिक्षकों और विद्यार्थियों को इस संस्थान के उज्ज्वल भविष्य के लिए पूर्ण समर्पण और मिशन मोड पर कार्य करने का आग्रह किया। उन्होंने कहा कि इस विश्वविद्यालय का नामकरण भारत के लौह पुरूष सरदार वल्लभ भाई पटेल के नाम पर किया गया है, जिन्हांेने रियासतों का एकीकरण कर अखण्ड भारत के निर्माण में बहुमूल्य योगदान दिया।
    जय राम ठाकुर ने कहा कि मण्डी में नए विश्वविद्यालय की स्थापना से प्रदेश के दूर-दराज क्षेत्रों से आने वाले विद्यार्थी लाभान्वित होंगे, क्योंकि मण्डी हिमाचल के मध्य में स्थित है और अब महाविद्यालय तथा विश्वविद्यालय से सम्बन्धित कार्य के लिए इन पांच जिलों के विद्यार्थियों को शिमला नहीं जाना पड़ेगा। उन्होंने कहा कि राज्य में दो विश्वविद्यालय होने से स्नातकोत्तर पाठ्यक्रमांे की सीटों में भी वृद्धि होगी और विद्यार्थियों को उच्च शिक्षा ग्रहण करने के लिए आसानी से प्रवेश मिल सकेगा तथा इससे हिमाचल प्रदेश विश्वविद्यालय शिमला का बोझ भी कम होगा। 
    मुख्यमंत्री ने महाविद्यालय के अपने दिनों को याद करते हुए कहा कि वर्ष 1986-87 में वल्ल्भ राजकीय महाविद्यालय मण्डी में चार हजार से अधिक छात्र शिक्षा ग्रहण करते थे और आज भी छः हजार से अधिक विद्यार्थियों के साथ यह प्रदेश का सबसे बड़ा महाविद्यालय है। उन्होंने कहा कि महाविद्यालय में अर्जित शिक्षा आज भी उन्हें जीवन मेें विभिन्न बाधाओं को दूर करने में सहायक रही हैं। उन्होंने कहा कि वल्लभ परिसर के निर्माण पर 27 करोड़ रुपये व्यय किए गए हैं और इस वर्ष सितम्बर माह तक इसका निर्माण कार्य पूरा कर लिया जाएगा। उन्होंने कहा कि इस महाविद्यालय का एक पूर्व विद्यार्थी प्रदेशवासियों को राज्य का दूसरा विश्वविद्यालय समर्पित कर रहा है और यह हम सभी के लिए गौरव के क्षण हैं।  उन्होंने कहा कि इस विश्वविद्यालय परिसर की स्थापना के लिए उपयुक्त भूमि का चयन शीघ्र ही किया जाएगा और इस वर्ष जुलाई से मौजूदा परिसर से ही कक्षाएं आरम्भ हो जाएंगी। 
    मुख्यमंत्री ने कहा कि छोटा पहाड़ी राज्य होने के बावजूद हिमाचल प्रदेश ने शिक्षा के क्षेत्र में बड़े राज्यों का मार्ग प्रशस्त किया है। उन्होंने कहा कि प्रदेश सरकार गुणात्मक शिक्षा पर विशेष ध्यान दे रही है और सरकारी विद्यालयों के विद्यार्थियों ने बोर्ड के परीक्षा परिणामों में शानदार प्रदर्शन किया है।  
    जय राम ठाकुर ने कहा कि शिव धाम के पहले चरण का कार्य पूर्ण होने वाला है और यह पर्यटकों के लिए एक अतिरिक्त आकर्षण का केन्द्र बनेगा। उन्होंने कहा कि नेरचौक में चिकित्सा विश्वविद्यालय स्थापित किया गया है। उन्होंने कहा कि ग्रीन फील्ड हवाई अड्डा मण्डी का कार्य शीघ्र आरम्भ किया जाएगा, जो जिले की सबसे बड़ी परियोजना होगी।उन्हांेने कहा कि भारतीय विमानपत्तन प्राधिकरण के साथ शीघ्र ही कम्पनी की स्थापना की जाएगी और भूमि अधिग्रहण की प्रक्रिया भी शुरू की जाएगी। उन्होंने कहा कि मण्डी शहर के लोगों के लिए मण्डी नगर निगम वर्तमान प्रदेश सरकार की देन है। 
    इससे पहले, मुख्यमंत्री ने विश्वविद्यालय परिसर में जारी विभिन्न निर्माण कार्याें का निरीक्षण किया। उन्होंने निष्पादन एजेंसियों के अधिकारियों को इस महत्वकांक्षी परियोजना का समयबद्ध और गुणवत्तापूर्ण निर्माण सुनिश्चित करने के निर्देश दिए।
    इस अवसर पर उन्होंने सरदार पटेल विश्वविद्यालय मण्डी की लोकार्पण प्लेट और लोगो का भी अनावरण किया।
    मुख्यमंत्री ने वल्लभ डिग्री कॉलेज मण्डी के 1987 बैच के अपने सहपाठियों को भी सम्मानित भी किया।
    जल शक्ति मंत्री महेन्द्र सिंह ठाकुर ने प्रदेश की जनता और विशेष रूप से मण्डीवासियों की ओर से मण्डी में प्रदेश विश्वविद्यालय की स्थापना के लिए मुख्यमंत्री का आभार व्यक्त किया। उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री जय राम ठाकुर के नेतृत्व वाली वर्तमान प्रदेश सरकार के साढ़े चार वर्ष के कार्यकाल में समाज के हर वर्ग और राज्य के हर क्षेत्र का समग्र विकास सुनिश्चिित हुआ है। उन्होंने कहा कि इस दौरान राज्य में भ्रष्टाचार का एक भी मामला सामने नहीं आया है, जो भ्रष्टाचार के प्रति प्रदेश सरकार की जीरो टॉलरेंस नीति की पुष्टि करता है।
    शिक्षा मंत्री गोविंद सिंह ठाकुर ने कहा कि राज्य सरकार ने छात्रों को गुणवत्तापूर्ण शिक्षा प्रदान करने को सर्वोच्च प्राथमिकता दी है। चालू वित्त वर्ष के दौरान इस महत्वपूर्ण क्षेत्र के लिए 8412 करोड़ रुपये बजट का प्रावधान किया गया है। उन्होंने कहा कि सरदार पटेल विश्वविद्यालय राज्य के छात्रों के लिए एक मील पत्थर साबित होगा।
        प्रधान सचिव शिक्षा डॉ. रजनीश ने कहा कि मुख्यमंत्री जय राम ठाकुर राज्य में शिक्षा के बुनियादी ढांचे को मजबूत करने के लिए हमेशा संवेदनशील रहे हैं। उन्होंने कहा कि गुणवत्तापूर्ण शिक्षा से कोई भी दस प्रतिशत की वृद्धि हासिल कर सकता है और राष्ट्रीय शिक्षा नीति का लक्ष्य इसे हासिल करना है। उन्होंने कहा कि इस संस्थान में पढ़ने वाले छात्रों की सुविधा के लिए विश्वविद्यालय में बहु-विषयक पाठ्यक्रम उपलब्ध होंगे। उन्होंने कहा कि कांगड़ा जिले के शाहपुर में पहला ड्रोन फ्लाइंग ट्रेनिंग स्कूल स्थापित किया गया है और इस स्कूल से 75 छात्र उत्तीर्ण हुए हैं।
        सरदार पटेल विश्वविद्यालय मंडी के कुलपति प्रो. डी.डी. शर्मा ने इस अवसर पर मुख्यमंत्री और अन्य गणमान्य व्यक्तियों का स्वागत किया। विश्वविद्यालय की स्थापना के लिए जय राम ठाकुर का आभार व्यक्त करते हुए उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री ने इस कहावत को सत्य साबित किया है कि अगर कोई सपना देख सकता है तो उसे हासिल भी किया जा सकता है। उन्होंने आशा व्यक्त की कि आने वाले समय में यह विश्वविद्यालय देश के प्रमुख विश्वविद्यालयों में से एक के रूप में उभरेगा।
    इस अवसर पर विधायक कर्नल इंदर सिंह, अनिल शर्मा, राकेश जम्बाल, विनोद कुमार, हीरा लाल, जवाहर ठाकुर, इंदर सिंह गांधी और प्रकाश राणा, विश्वविद्यालय की प्रति-कुलपति प्रो. अनुपमा सिंह, उपायुक्त मंडी अरिंदम चौधरी, एसपी शालिनी अग्निहोत्री और अन्य गणमान्य व्यक्ति भी उपस्थित थे।
    .0.
     
    Read More
  • मुख्यमंत्री ने बिलासपुर जिला के घुमारवीं विधानसभा क्षेत्र में 117 करोड़ रुपये लागत की 21 विकासात्मक परियोजनाओं के शिलान्यास एवं लोकार्पण किए
     
     भराड़ी उप तहसील को तहसील में स्तरोन्नत करने तथा भगेड़ में लोक निर्माण विभाग का अनुभाग खोलने की घोषणा
     कपाहड़ा एवं भगेड़ में जल शक्ति विभाग के नये अनुभाग खोलने की भी घोषणा
    मुख्यमंत्री जय राम ठाकुर ने आज बिलासपुर जिला के घुमारवीं विधानसभा क्षेत्र में लगभग 117 करोड़ रुपये लागत की 21 विकासात्मक परियोजनाओं के शिलान्यास एवं लोकार्पण के उपरांत घंडालवी के समीप लदरौर में जनसभा को सम्बोधित करते हुए भराड़ी उप तहसील को तहसील में स्तरोन्नत करने तथा लोक निर्माण विभाग के कपाहड़ा उपमण्डल के अन्तर्गत भगेड़ में लोक निर्माण विभाग का अनुभाग खोलने की घोषणा की। 
    मुख्यमंत्री ने क्षेत्र में बागवानी को बढ़ावा देने के दृष्टिगत बागवानी अनुसंधान एवं विस्तार केन्द्र, कपाहड़ा एवं भगेड़ में जल शक्ति विभाग के नये अनुभाग खोलने, राजकीय उच्च पाठशाला भगेड़, पंतेहड़ा और कल्लर को वरिष्ठ माध्यमिक पाठशालाओं में स्तरोन्नत करने, राजकीय वरिष्ठ माध्यमिक पाठशाला दधोल में मेडिकल कक्षाएं शुरू करने, राजकीय वरिष्ठ माध्यमिक पाठशाला पनोह, कठलग, छत और कोट में वाणिज्य कक्षाएं तथा राजकीय वरिष्ठ माध्यमिक पाठशाला गलियां और अमरपुर में विज्ञान की कक्षाएं शुरू करने की भी घोषणा की। उन्होंने राजकीय प्राथमिक पाठशाला संडयार को राजकीय माध्यमिक पाठशाला तथा राजकीय माध्यमिक पाठशाला हरितलंग्यार को राजकीय उच्च पाठशाला में स्तरोन्नत करने की भी घोषणा की।
    जय राम ठाकुर ने दधोल में प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र खोलने और सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र हटवाड़ को 10 बिस्तर क्षमता के स्वास्थ्य संस्थान में स्तरोन्नत करने की घोषणा की। उन्होंने पनयाला (कोठी) तथा पपलाह में पशु औषधालय खोलने घोषणा की। उन्होंने खण्ड प्रारम्भिक शिक्षा अधिकारी-एक को घुमारवीं से बदल कर भराड़ी में स्थापित करने की घोषणा की। उन्होंने कहा कि सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र भराड़ी और नागरिक अस्पताल घुमारवीं में लैब टेक्निशियन के दो-दो पद स्वीकृत किए जाएंगे। 
    मुख्यमंत्री ने कहा कि वर्तमान प्रदेश सरकार ने आज अपने कार्यकाल के साढ़े चार वर्ष पूर्ण कर लिए हैं और यह कार्यकाल अंतिम पंक्ति में खड़े लोगों के उत्थान और गरीब एवं जरूरतमंदों के कल्याण को समर्पित रहा है। उन्होंने कहा कि महामारी के बावजूद सरकार ने विकास की गति को बनाए रखा है। उन्होंने इन विकास कार्यों का श्रेय राज्य के लोगों के निरन्तर सहयोग एवं समर्थन को दिया। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का राज्य और यहां के लोगों के प्रति विशेष लगाव रहा है। प्रधानमंत्री ने केन्द्र में राजग सरकार के आठ साल का कार्यकाल पूर्ण होने पर देश के लोगों को सम्बोधित करने के लिए शिमला के ऐतिहासिक रिज को और सभी राज्यों के मुख्य सचिवों के अधिवेशन के लिए धर्मशाला को चुना, जो कि राज्य के लोगों के प्रति उनके स्नेह एवं उदारता को दर्शाता है।
    जय राम ठाकुर ने कहा कि राज्य सरकार प्रदेश के लिए केन्द्र से 10 हजार करोड़ रुपये की परियोजनाएं स्वीकृत करवाने में सफल रही है। इसके अतिरिक्त राज्य के लिए एक अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान (एम्स), चार मेडिकल कॉलेज और एक मेडिकल डिवाइस पार्क केन्द्र द्वारा प्रदान किए गए हैं। उन्होंने कहा कि इसके बावजूद विपक्ष के नेता राज्य को केन्द्र सरकार द्वारा कुछ भी न देने के आधारहीन आरोप लगा रहे हैं। उन्होंने कहा कि विपक्षी नेताओं द्वारा जिस तरह से अभद्र भाषा का प्रयोग किया जा रहा है, वह उनकी बौखलाहट को दर्शाता है। उन्होंने कहा कि अपने वर्तमान कार्यकाल में राज्य सरकार ने गरीबों एवं जरूरतमंद वर्गों के लिए कई कल्याणकारी योजनाएं शुरू की हैं और अब कांग्रेस के नेता सत्ता में आने पर इन योजनाओं को बंद करने की बातें कर रहे हैं। 
    मुख्यमंत्री ने कहा कि हाल ही में चार राज्यों में हुए विधानसभा चुनावों में लोगों ने भाजपा की सरकारों पर पुनः अपना विश्वास जताया है और कांग्रेस को पूरी तरह से नकार दिया है। उन्होंने कहा कि राज्य के लोग भी अब मिशन रिपीट सुनिश्चित कर इतिहास रचेंगे ताकि विकास की गति को निर्बाध जारी रखा जा सके।
    मुख्यमंत्री ने इससे पूर्व 95 लाख रुपये की लागत से निर्मित सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र, 3.41 करोड़ रुपये की लागत से बाड़ा दा घाट से बम वाया सलौन सड़क में द्रग खड्ड पर निर्मित पुल, ग्राम पंचायत मुण्डखर तथा तलाओ पलासला की शेष बस्तियों के लिए 2.29 करोड़ रुपये की उठाऊ पेयजल योजना, राजकीय वरिष्ठ माध्यमिक पाठशाला (कन्या) घुमारवीं में 1.09 करोड़ रुपये से निर्मित अतिरिक्त कमरों, राजकीय वरिष्ठ माध्यमिक पाठशाला हटवाड़ में 90 लाख रुपये से निर्मित विज्ञान प्रयोगशाला भवन, नागरिक अस्पताल घुमारवीं के समीप राष्ट्रीय उच्च मार्ग 103 पर 66 लाख रुपये की लागत से निर्मित ओवरहेड पैदल पुल, मरहाणा (भदरेट), माकड़ी तथा सलाओ उपरली गांव के लिए 92 लाख रुपये लागत की उठाऊ पेयजल योजना, ग्राम पंचायत कोटलू ब्राह्मणा में 5.02 करोड़ रुपये से उठाऊ पेयजल योजना छत हिम्मर से हर घर को नल उपलब्ध करवाने, राजकीय डिग्री महाविद्यालय में 1.34 करोड़ रुपये के ई-पुस्तकालय इत्यादि तथा हिमाचल प्रदेश राज्य विद्युत बोर्ड सीमित के घुमारवीं मण्डल के अन्तर्गत 70 लाख रुपये से निर्मित विद्युत उपमण्डल भराड़ी के भवन तथा 14 लाख रुपये की लागत से निर्मित राजकीय माध्यमिक पाठशाला घंडावली के दो कमरों का उद्घाटन किया। 
    जय राम ठाकुर ने राष्ट्रीय उच्च मार्ग-103 से भागदबन गांव के लिए 1.85 करोड़ रुपये की लागत से निर्मित होने वाले सम्पर्क मार्ग, घुमारवीं में 3.89 करोड़ रुपये से निर्मित होने वाले हिमाचल प्रदेश स्कूल शिक्षा बोर्ड के भवन, उठाऊ पेयजल योजना कोठी, पन्याला और बहाव पेयजल योजना औहर के 12.34 करोड़ रुपये से होने वाले संवर्द्धन कार्य, 8.27 करोड़ रुपये से उठाऊ पेयजल योजना दियारा और लन्झता के संवर्द्धन, उठाऊ सिंचाई योजना औहर, पलथीं, सेपड़ा, बकरोआ, पलेह, पेहडवीं, मझासु व इसके साथ लगते क्षेत्रों के लिए 15.73 करोड़ रुपये से निर्मित होने वाली सिंचाई योजना, सीर खड्ड पर विभिन्न सिंचाई व पेयजल योजनाओं के पुनर्भरण के लिए 3.61 करोड़ रुपये के वर्षा जल संग्रहण के निर्माण कार्य, उठाऊ पेयजल योजना नगर परिषद घुमारवीं के लिए 20.96 करोड़ रुपये के संवर्द्धन, नगर परिषद घुमारवीं में 13.53 करोड़ रुपये की मल निकासी योजना के कार्य तथा करलोटी, कपाहड़ा तथा फटोह के लिए सतलुज नदी से पेयजल उपलब्ध करवाने के लिए जल जीवन मिशन के अन्तर्गत 19.03 करोड़ रुपये निर्मित होने वाली पेयजल योजना का शिलान्यास किया। 
    स्थानीय विधायक व खाद्य एवं नागरिक आपूर्ति मंत्री राजिंद्र गर्ग ने मुख्यमंत्री का स्वागत करते हुए कहा कि वर्तमान राज्य सरकार के कार्यकाल में घुमारवीं क्षेत्र में अभूतपूर्व विकास हुआ है। उन्होंने कहा कि इस आभार रैली का आयोजन मुख्यमंत्री का धन्यवाद व्यक्त करने के लिए किया गया था, क्योंकि मुख्यमंत्री क्षेत्र का विकास सुनिश्चित करने के लिए सदैव ही सवंदेनशील रहे हैं। उन्होंने घंडालवीं में राजकीय स्नातक महाविद्यालय आरम्भ करने के लिए भी मुख्यमंत्री का आभार व्यक्त किया। उन्होंने कहा कि यह महाविद्यालय हमीरपुर जिले के साथ लगते भोरंज विधानसभा क्षेत्र की 10 से अधिक पंचायतों के अलावा, क्षेत्र की 25 हजार से अधिक आबादी के लिए वरदान साबित होगा। उन्होंने मुख्यमंत्री के समक्ष क्षेत्र की विकासात्मक मांगों का ब्यौरा भी रखा।
    घुमारवीं भाजपा मंडलाध्यक्ष सुरेश ने इस अवसर पर मुख्यमंत्री और अन्य गणमान्य व्यक्तियों का स्वागत किया।
    इस अवसर पर भोरंज की विधायक एवं उप-मुख्य सचेतक कमलेश कुमारी, सदर के विधायक सुभाष ठाकुर, झंडुता के विधायक जे.आर. कटवाल, मुख्यमंत्री के राजनीतिक सलाहकार त्रिलोक जम्वाल, हिमाचल प्रदेश स्कूल शिक्षा बोर्ड के अध्यक्ष डॉ. सुरेश सोनी, भाजपा जिलाध्यक्ष स्वतंत्र सांख्यान, बिलासपुर जिला भाजपा के सह-प्रभारी डॉ. सीमा ठाकुर, स्वामी राजिन्द्र गिरी सहित अन्य गाणमान्य व्यक्ति उपस्थित थे।
    .0.
     
    Read More
Features View All फ़ीचर सभी देखें
Flagship SchemesView Allफ्लैगशिप कार्यक्रम सभी देखें

Latest Video FootageView Allनवीनतम वीडियो फुटेजसभी देखें
Departments Productions View All विभाग प्रोडक्शंससभी देखें
Latest News PhotographsView Allनवीनतम समाचार फोटोसभी देखें
Digital Photo LibraryView All डिजिटल फोटो गैलरीसभी देखें
You Are Visitor No.हमारी वेबसाइट में कुल आगंतुकों 5144135

Nodal Officer: UC Kaundal, Dy. Director (Tech), +919816638550, uttamkaundal@gmail.com

Copyright ©Department of Information & Public Relations, Himachal Pradesh.
Best Viewed In Mozilla Firefox

//